[Complete Guide] SEO Friendly Article कैसे लिखें?

Seo Friendly Article Kaise Likhe : अक्सर नये ब्लॉगर के मन में ये सवाल तब आता है जब वह Seo के बारे में जानता है। Seo Friendly Post लिखने से मतलब होता है कि जब हम अपने ब्लॉग पर लेख लिखें तो उसका On-page Seo करें।

Seo हमारे ब्लॉग की रैंकिंग के लिए जरूरी है। सही SEO से सर्च रिजल्ट में हमारा प्रदर्शन अच्छा होता है और हमारी पोस्ट अन्य पोस्ट को पछाड़ते हुए टॉप पर रैंक करती है। जिससे हमारी साईट पर ट्रैफिक में बढ़ोतरी होती है। SEO को भी दो भागों में बांटा जाता है – On-page Seo और Off-page Seo.

अब आपके मन में “On Page Seo क्या है” ये सवाल भी आया होगा जो कि पिछले प्रश्न से जुड़ा हुआ है। तो आज के इस आर्टिकल में हम जानेंगे कि Blog Post का On Page Seo कैसे करें या Seo Friendly Blog Post कैसे लिखें ?

Seo Friendly Article Kaise Likhe – On Page Seo कैसे करें ?

On Page Seo क्या है ➤ ऑन पेज Seo पोस्ट लिखते समय की जाने वाली वो प्रक्रिया है जो हमारी पोस्ट को गूगल या अन्य सर्च इंजन में रैंक करने के लिए Boost करती है। On Page Seo की प्रोसेस के अंदर कई Steps होते हैं जो हमे फॉलो करने होते हैं।

On Page Seo करने के मुख्य Steps :-

ट्रैफिक के लिए रैंकिंग जरूरी है, रैंकिंग के लिए Seo फ्रेंडली आर्टिकल (On Page + Off Page), Seo फ्रेंडली आर्टिकल के लिए On Page Seo जरूरी है और On Page Seo करने के लिए आपको निम्न स्टेप्स को फॉलो करना होगा जब भी आप अपनी साईट पर लेख लिखें –

Seo Friendly Blog Post ऐसे लिखें
SEO Friendly Blog Post लिखने के स्टेप्स

1.आर्टिकल लिखने से पहले Keyword Research

Keyword वही Word या Sentence है जिसे Users सर्च इंजन में सर्च करते हैं व जो आपके आर्टिकल को चंद शब्दों में बयान करता हो। कीवर्ड रिसर्च का सीधा-सा मतलब है – ये पता किया जाए कि किस Keyword पर Searches, Competition, Cpc वगेराह कितनी है।कीवर्ड की रिसर्च करना इसलिए जरूरी है क्योंकि इससे आप अपने लेख को गूगल में रैंक करवा सकते हैं और ट्रैफिक पा सकते हैं।

अगर आपकी नयी साईट है तो वहाँ Low Competition Keywords पर आर्टिकल लिखें। ध्यान ये भी रहे कि आपके Keywords पर Searches भी होनी चाहिए मतलब कि उसे लोगों द्वारा सर्च भी किया जाना चाहिए।

अगर आप शुन्य सर्च वाले कीवर्ड पर अपने लेख को रैंक कर लेते हैं तो भी आपको ट्रैफिक नहीं मिलेगा। (इस तरह रैंक करना असल में आसान है क्योंकि जिस कीवर्ड पर सर्च नहीं होंगी तो जाहिर सी बात है उस पर Competiton भी कम होगा तो आपका लेख जल्दी और आसानी से रैंक हो जायेगा।)

अथवा आप कीवर्ड वो चुन लेते हैं जिस पर Searches तो हैं लेकिन उस पर Competition आपकी साईट के अनुसार ज्यादा हो (Difficulty ज्यादा हो) तो आपको उस पर रैंक करने में बहुत ही दिक्कत आएगी तो ये भी आपके लिए सही नहीं होगा।

इसलिए हमेशा सही कीवर्ड चुनें जिस पर Search भी हों, Competition भी कम हो ताकि आपको रैंक करने में आसानी रहे।

ध्यान दें 🤭 – ये जो आसान शब्द जितना आसान लग रहा है कुछ मामलों में ये रैंक करना उतना आसान भी नहीं है इसलिए अगर रैंक होने में थोड़ा समय लग जाए तो निराश न हों।

2.Related Keyword (LSI – Latent semantic indexing) का इस्तेमाल

जब आप अपना Main Keyword ढूँढ लें और उस पर आर्टिकल लिखें तो उसमें आप अपने Main Keyword से संबंधित/LSI Keywords का भी इस्तेमाल करें।

इससे फ़ायदा यह होगा कि आपकी पोस्ट मुख्य कीवर्ड के साथ साथ आपके आर्टिकल में जो जो Main Keyword से जुड़े LSI कीवर्ड हैं, उन पर भी रैंक होगी जिससे आपके ट्रैफिक में वृद्धि होगी।

Related Keyword ढूंढने के लिए आप अपने Main Keyword को गूगल आदि में सर्च करें जिससे आपको पेज के अंत में Related Keywords मिलेंगे जिन्हें Users द्वारा सर्च भी किया जाता है।

इसके अलावा Long Tail Keywords (4-5 या उससे अधिक Words वाले कीवर्ड) का इस्तेमाल करें। जैसे :- “Best Android Phones” Short Tail Keyword की बजाय अगर आप “Top 10 Best Android Phones In 2020” Long Tail Keyword का इस्तेमाल करना।

Long Tail कीवर्ड का इस्तेमाल करने पर आपका आर्टिकल Short Tail Keyword के लिए भी रैंक करेगा। क्योंकि Long Tail में आपका Short Tail Keyword भी शामिल है।

3.Meta Title व Meta Description को Optimize करना

अपने Title को User के लिए Attractive बनायें क्योंकि अगर आपका Title आकर्षित करने वाला होगा तो Users आपके आर्टिकल को पढ़ना चाहेंगे। अपने Title में अपने Main Focus Keyword को भी शामिल करें।

Meta Description हालांकि एक Ranking Factor नहीं है लेकिन ये आपके कंटेंट की CTR बढ़ाने में सहायक हो सकता है। ये संक्षेप में यूज़र को बताता है कि आपका आर्टिकल किस बारे में है।

इसलिए Meta Description में अपने Main Keyword के साथ Related Keyword भी शामिल करें और यूजर को आर्टिकल का सार संक्षेप में आकर्षक तरीके से दें।

4.आर्टिकल के शुरुआत में Focus Keyword का उपयोग

आपके लेख की शुरुआत का पैराग्राफ Default में आपके Meta Description के तौर पर Show होता है इसलिए पहले Paragraph में भी Focus Keyword व Related Keywords का इस्तेमाल करें।

आजकल तो आप Rank Math या Yoast SEO जैसे SEO Plugins का इस्तेमाल करके अपने अनुसार अच्छा Meta Description लिख सकते हैं।

हालांकि शुरुआत में ही Keywords की बौछार करने से आपका आर्टिकल थोड़ा खराब लग सकता है इसलिए Keywords का इस्तेमाल सही से करें।

4.Headings व Subheadings में Focus Keyword का उपयोग

एक SEO Friendly Article लिखने के लिए आपको Heading या Sub Heading Extras में भी अपने Main Keyword का इस्तेमाल करना चाहिए।

आप चाहें तो LSI Keywords का इस्तेमाल भी इनमें कर सकते हैं लेकिन ध्यान रखें Keywords का इस्तेमाल ढंग से करें ताकि यूज़र परेशान न हो जाए।

5.SEO Friendly Url का अहम Role

आपको अपने आर्टिकल के URL को हमेशा SEO Friendly रखना चाहिए। मेरे कहने का मतलब है कि URL को जितना हो सके Short रखें और URL में Main Keyword को शामिल जरुर करें।

बड़ा Url/Slug गंदा भी दिखता है व Seo के नज़रिये से भी ऐसा सही नही है।

WordPress में Permalink Setup के लिए आप Setting>Permalinks में जाएँ और वहाँ Permalink टाइप “Post Name” सेलेक्ट करें।

6.Long Article का मसला

कई रिसर्च के अनुसार ये पता चला है कि गूगल में Short कंटेंट की बजाय Long कंटेंट अच्छा प्रदर्शन करता है। इसलिए आप हो सके तो बड़ा आर्टिकल लिखें।

रुकिए, मेरे कहने का मतलब ये नहीं है कि आपको आर्टिकल को ज़बरदस्ती खींचकर व बढ़ा-चढ़ाकर लिखना है। मेरा मतलब है कि आप अपने टॉपिक से रिलेटेड जितनी जानकारी हो सके वो अपने लेख में शामिल करें।

इससे यूज़र को उसकी पूरी जानकारी भी मिलेगी और बिना यूज़र को Bore किये आपका आर्टिकल भी Long हो जायेगा। इस तरह क्रेता भी ख़ुश और विक्रेता भी। 😅

7.Quality व Unique Content की अहमियत

जब भी आप लेख लिखें तो ध्यान रखें उसे कहीं से भी Copy करके न लिखे बल्कि अपना ख़ुद का Unique Content लिखे। इस मामले में आप Plagrisom Checker Tools का इस्तेमाल भी कर सकते हैं।

अपने लेख में वो सभी जानकारी शामिल करें जो कि यूज़र को मिलनी चाहिए। इस तरह आपका कंटेंट Quality से भरपूर होगा। आर्टिकल को फ़ालतू बातों से लम्बा करने का प्रयास न करें।

लेखन शैली अच्छी रखें तथा आसान शब्दों का चयन करें। लिखने में गलती व Grammer Mistakes न करें।

इस तरह Unique और Quality से भरा आर्टिकल गूगल में अच्छा प्रदर्शन कर पायेगा।

8.Short Paragraph लिखना है एक बेहतर विकल्प

आप अपने लेख को लिखते समय उसको छोटे-छोटे पैराग्राफ में बाँटे ताकि पढ़ने वालो को पढ़ने में आसानी हो और उसे सब खिचड़ी न लगे।

2 से 4 लाइन तक का एक पैराग्राफ रखें तो इससे आपकी Bounce Rate नहीं बढ़ेगी मतलब यूज़र लंबे समय तक आपकी साईट पर बने रहेंगे।

9.Keyword Density व Keyword Stuffing

अभी तक आप Keyword की अहमियत समझ ही चुके होंगे लेकिन इसका मतलब ये नहीं कि आप अपना पूरा आर्टिकल Keywords से ही भर दें। ऐसा करना Keyword Stuffing कहलाता है। ऐसा करने पर गूगल आपके आर्टिकल को Spam समझ सकता है।

आप अपने लेख की Keyword Density को 1-2% ही रखें मतलब हर 100 शब्दों में आपको अपने कीवर्ड को 1 से 2 बार ही इस्तेमाल करना है।

आप हर कीवर्ड की Density इतनी ही रखें ताकि Stuffing न हो और आपकी रैंकिंग पर फर्क न पड़ें।

10.Internal & External Links

अपने आर्टिकल में उससे संबंधित अन्य पोस्ट को Internal Link करें इससे Bounce Rate कम होगी व इस आर्टिकल के जरिये Others पर भी ट्रैफिक की संभावना रहती है।

आपको अपने लेख में Outbond/External Links भी Add करनी चाहिए। आप किसी अथॉरिटी साईट के आर्टिकल को Dofollow Link भी दे सकते है जिस पर आपके लेख से संबंधित कुछ जानकारी हो।

इस तरह आप इंटरनल और एक्सटर्नल लिंक्स से आपके कंटेंट की वैल्यू बढ़ा सकते हैं।

11.Optimized Media का इस्तेमाल

आपके लेख में यदि आप Image का Use करते हैं तो वो वो आपके आर्टिकल के किसी पॉइंट को यूज़र के समझने के लिए आसान बना देती है और एक इमेज 1000 शब्दों के बराबर होती है।

Image के रैंक होने पर भी आपको ट्रैफिक मिलने के संभवना रहती है। इसके अलावा आप Videos व Infographics का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। आप Image का उपयोग करने से पहले उसे निम्न तरीकों से Optimize करें –

  • Image को गूगल Bot Read नहीं कर सकता है। इसके लिए वह Alt Tag का Use करता है। इसलिए इमेज में हमेशा Alt Tag का इस्तेमाल करें जिसमें आप अपने Main Keyword को रख सकते हैं।
  • File को Server पर अपलोड करने से पहले उसको Name को सही से Edit करें मतलब आप Image Name में अपने Keyword को रख सकते हैं।
  • अपनी Images की साइज़ को कम रखें अर्थात उन्हें Optimize करें क्योंकि Large File साइज़ होने से आपके पेज का साइज़ भी Increase होगा जिससे Loading Speed कम हो सकती है। इसके लिए आप कई ऑनलाइन टूल्स या WordPress में Plugins का भी इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • आप सही Image Format (JPG/PNG/WEBP Etc.) का चयन भी करें। Compress करने में ये भी आपकी सहायता करेगा।

12.आर्टिकल का सही Structure

User के लिए अपने लेख को पढ़ने के लिए आसान बनाने के लिए इसका ढाँचा सही होना चाहिए मतलब अपने लेख को कई चीज़ों में बांटकर User को इस तरह परोसें कि वह Bore न हो जाये।

जैसे Headings, Bullet/Number List आदि का इस्तेमाल करके पोस्ट को खिचड़ी होने से बचायें। इससे आपका लेख पढ़ने में आसान हो जायेगा।

इसके अलावा आप Table Of Content का इस्तेमाल करें और अपने लेख के अंत में Conclusion (निष्कर्ष) जरुर लिखें जिसमें आप बतायें कि लेख का निष्कर्ष क्या निकला ?

हो सके तो अपने लेख के शुरू में या अंत में Social Media Share बटन भी Add करें ताकि User को आपके लेख को शेयर करने में आसानी हो।

13.Technical SEO भी एक हिस्सा

Seo Friendly Article के लिए Technical SEO भी जरूरी है। चिंता न करें इसमें आपको ज्यादा Coding Knowledge होना जरूरी नहीं है।

Technical Seo के तहत निम्न कुछ बिंदु है जिनका आपको ध्यान रखना चाहिए ताकि आपकी पोस्ट Seo Friendly हो –

  • Speed Matters : अब गूगल आपकी वेबसाइट की स्पीड को महत्व देने लग गया है इसलिए अब ये तो और भी जरूरी हो गया है कि अपनी वेबसाइट की Loading Speed को सही रखें। आप Google Page Insight, Gtmetrix व Pingdom का इस्तेमाल करके अपनी साईट को Analysis करें तथा Loading Speed Slow है तो इसे सही करें।
  • Mobile Friendliness : आपकी वेबसाइट मोबाइल फ्रेंडली भी होनी चाहिए क्योंकि Google का यह एक Ranking Factor है जिसे Ignore नहीं किया जा सकता है। Mobile Friendly Test का इस्तेमाल करके आप अपनी वेबसाइट को चेक कर सकते हैं कि यह मोबाइल फ्रेंडली है या नहीं।
  • Broken Links : अगर आपकी वेबसाइट में Broken Links होंगी तो Crawler Bot उनके Destination को Find नहीं कर पायेगा। Broken Links में Internal और External दोनों तरह की लिंक हो सकती है।इसलिए आप ऑनलाइन टूल्स का इस्तेमाल करके Broken Links ढूंढ़कर उन्हें Fix कर सकते हैं।

Conclusion (निष्कर्ष)

आज के आर्टिकल में हमने जाना कि Seo Friendly Article Kaise Likhe या On Page Seo कैसे करें ?

अगर आपको आज का लेख SEO Friendly Blog Post Kaise likhe पसंद आया हो तो इसे शेयर जरुर करें और अगर आपका कोई सवाल है तो Comment में पूछ सकते हैं।

Author: Murari Poonia

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *